Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    क्षेत्र में चार लाख मास्क वितरित करने का लिया संकल्प, पत्रकारों को बाटी पीपी किट


    क्षेत्र में चार लाख मास्क वितरित करने का लिया संकल्प, पत्रकारों को बाटी पीपी किट


    बदायूं/दातागंज। डॉ शैलेश पाठक ने आज वैश्विक महामारी कोरोना के मद्देनजर एवं लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग के प्रति जागरूक करते हुए यह घोषणा की कि 'हम' हैं मुहिम के द्वारा दातागंज विधानसभा क्षेत्र में 4 लाख मास्क बांटे जाएंगे। जिसका प्रारंभ आज से हो गया है। 

    मास्क बांटने के साथ-साथ आज पाठक ने अपने आवास पर दातागंज के पत्रकारों को पीपी किट का भी वितरण किया। पत्रकारों ने कहा कि शैलेश पाठक के अलावा किसी नेता ने पत्रकारों का इतना ख्याल नहीं रखा। उन्होंने समय-समय पर पत्रकारों को कई बार सम्मानित किया। इस मुहिम को चलाने से पहले डॉक्टर पाठक के आवास पर पूरे विधि विधान से हवन पूजन हुआ। इस मनोरथ से कि सभी क्षेत्रवासी स्वस्थ रहे और दातागंज कोरोना मुक्त रहे। "हम है" का रथ रवाना होने के पहले डॉक्टर पाठक के पुत्र अंकित पाठक द्वारा नारियल की आहुति के साथ पूजा अर्चना की गयी और इस तरह पाठक परिवार की चौथी पीढ़ी ने सेवा परमो धर्म के पथ पे चलना स्वीकारा। डॉक्टर पाठक की सक्रिय राजनीति में कभी ना नज़र आने वाले उनके पुत्र ने इस कोरोना काल में अपने पिता की मानवता की सेवा को अपनाते हुए ज़मीन पर उतर कर 4 लाख मास्क बाँटने का संकल्प लिया।

    डॉक्टर पाठक ने बताया कि परशुराम जयंती पर मैंने 50000 मास्क बांटने का संकल्प लिया था जिसके वितरण के दौरान मैंने यह पाया की पूरी विधानसभा क्षेत्र के लिए यह कम रहेगा। आने वाले दिनो में कोरोना का क़हर देखते हुए दातागंज के हर व्यक्ति की सुरक्षा की व्यक्तिगत ज़िम्मेदारी उठाते हुए उसी दिन मैंने यह निर्णय कर लिया था की इस मुहिम को आगे भी इसी प्रकार बढ़ाना है। घर घर जाकर हर चेहरे को सुरक्षा का आवरण दिया जाएगा। इस दौरान उन्होंने क्षेत्र की जनता से यह निवेदन किया की पूरी विधानसभा में जिसको भी मास्क की आवश्यकता हो उनके मोबाइल नंबर पर सूचित करें। उन सबके घरों तक मास्क भिजवाया जाएगा। डॉ पाठक ने क्षेत्रवासियों से अपील करते हुए कहा लॉकडाउन ना होने पर ही घर से ना निकलने की आदत डालनी होगी। हम लोग सिर्फ जरूरत पड़ने पर घर से बाहर निकले एवं अपने व अपने संबंधियों की एवं अपने बच्चों के सुरक्षा के प्रति जिम्मेदारी को समझते हुए प्रत्येक व्यक्ति बिना मास्क के बाहर ना जाने दे। 

    ऐसे व्यक्ति को चिन्हित करके उसे जागरूक करके मास्क दें जो बिना मास्क लगाकर बाहर घूम रहे हैं। इस दौरान डॉ पाठक ने 2 गज की दूरी-मास्क है जरूरी इस नारे के साथ घर घर और जन जन तक मास्क पहुँचाने का निर्णय लेते हुए संगठन की ताक़त के साथ इस मुहिम को एक नए रूप "हम है" की आवाज़ के साथ आरंभ किया।उन्होंने कहा "हम है" एक मुहिम है जिसके द्वारा हमें दलगत भावना भुलाकर दिलों का रिश्ता बनाते हुए वैश्विक महामारी कोरोना से मिलकर लड़ना है आप और मैं मिलकर "हम हैं" बनना है। यदि हम संगठित होकर 'हम हैं' को मजबूत करेंगे तो निश्चित रूप से वैश्विक महामारी कोरोना की कड़ी टूट जाएगी और इस लड़ाई में 'हम हैं 'जीत जाएंगे। इस महामारी के खिलाफ मैं शुरू से ही आप से कहता हूं जिस जगह जिस प्रकार की मदद की आवश्यकता मेरे द्वारा हो आप लोग सूचित करें आपके लिए मैं हर संभव मदद करने का प्रयास करूंगा।

    दातागंज से मनोज गुप्ता की रिपोर्ट

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.