Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कोरोना सेफ्टी किट न मिलने से आशा वर्कर्स में रोष, काम बंद कर दो घंटे की हड़ताल की


    कोरोना सेफ्टी किट न मिलने से आशा वर्कर्स में रोष, काम बंद कर दो घंटे की हड़ताल की


    पलवल।  जिले के उपमन्डल होडल मे कोरोना पॉजिटिव कैस से अब कोरोना योद्धाओ को भी डर सताने लगा है। पहले सफाई कर्मचारी अब आशा वर्कर को भी ना तो मास्क ना ही सेफ्टी किट और ना ही सेनिटाइज दिया जा रहा है जिससे अब कोरोना योद्धाओ को भी भय के साए में में काम करना पड़ रहा है आशाफ़ वर्करों कहा की हमारी ड्यूटी गांवो में घर घर जाकर सेम्पल लेने के लिए लगाई गई है सबसे ज्यादा खतरा हमे है लेकिन सरकार व स्वास्थ्य विभाग द्वारा हमे कोई सेफ्टी सामग्री नहीं दी जा रही है जिसके चलते हमे अबय बीमारी का पूरा खतरा है। 

    होडल आशा वर्करों ने दो घंटे काम बंद कर हड़ताल की है अभी कुछ दिन पहले सफाई कर्मचारियों ने भी सेफ्टी सामग्री ना मिलने को लेकर अपना दुखता रोया था और अब आशा वर्करों को भी कोरोना जैसी महामारी से अपनी जान को खतरा सताने लगा है क्योकि आशा वर्करों को भी प्रसाशन द्वारा कोई सेती किट व अन्य सामग्री नहीं दी जा रही है आशा वर्करों ने कहा की इस कोरोना महामारी मै आशा वर्करों की डियूटी लगाई हुई है आशा वर्करों को गांव गांव जाकर सेम्पिलंग करनी होती है और क्या पता किसे यह कोरोना बीमारी हो अगर किसी कोरोना बीमारी से ग्रस्त के सम्पर्क मै हम आ जाए तो यह बीमारी हमे भी हो सकती है जिससे हमे अपनी जान का पूरा खतरा है वही आशा वर्करों ने कहा की अगर इस बीमारी की चपेट मै आने से हमे कुछ हो जाता है तो अन्य विभाग के कोरोना योद्धाओ के लिए सरकार ने बिमा योजना लागू की हुई है जबकि सबसे ज्यादा खतरा हमे है और हमे ही इस इस बिमा योजना से बाहर रखा गया है जिससे पता चलता है सरकार हमारे साथ दोगला व्यवहार कर रही है और हमारे जीवन से खिलवाड़ करने कोई कसर नहीं छोड़ रही है अपना दुखड़ा रोते हुए कहा की पहले तो होडल में कोई कोरोना केस नहीं थे लेकिन अब होडल में भी दिन रोज बढ़ते कोरोना के केस बढ़ते हुए लगभग 35  की संख्या पहुंच चुकी है और अब हमे भी डर के साए में काम करने को मजबूर है आशा वर्करों ने प्रसाशन व सरकार को चेतावनी देते हुए कहा की या तो प्रसाशन व सरकार है भी सेफ्टी किट व सेफ्टी सामग्री उपलब्ध करे अन्यथा हम आशा वर्कर अनिश्चित काल के लिए हड़ताल पर जाएगी।

    पलवल से ऋषि भारद्वाज की रिपोर्ट 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.