Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    स्वास्थ्य विभाग से करीब 15 हजार ठेका कर्मचारियों को नौकरी से निकालने के खिलाफ प्रदर्शन


    स्वास्थ्य विभाग से करीब 15 हजार ठेका कर्मचारियों को नौकरी से निकालने के खिलाफ प्रदर्शन


    पलवल।  स्वास्थ्य विभाग से पहली जुलाई से करीब 15 हजार ठेका कर्मचारियों को नौकरी से निकालने के खिलाफ रविवार को ठेका कर्मचारियों ने पलवल के नागरिक अस्पताल में आक्रोश प्रदर्शन किया। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा की जिला कमेटी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनवारी लाल की अध्यक्षता में आयोजित इस प्रर्दशन में सभी पीएचसी व सीएचसी और जरनल अस्पताल के सैकड़ों की तादाद में ठेका कर्मचारियों ने भाग लिया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।  

     सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांबा ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ने पहली जुलाई से सालों से कार्यरत 3200 सिक्योरिटी गार्ड को नौकरी से निकाल कर होमगार्ड को लगाने और बाकी पदों पर कई कई सालों से काम कर रहे ठेका कर्मचारियों को निकाल कर नए कर्मचारियों को लगाने के लिए महानिदेशक, स्वास्थ्य सेवाएं हरियाणा द्वारा 17 फरवरी को जारी गाइडलाइंस के अनुसार टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी है। जिसके खिलाफ सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा द्वारा आंदोलन चलाए हुए हैं। उन्होंने फूलप्रुफ सिक्योरिटी देने के लिए सिक्योरिटी गार्ड को हटाकर होमगार्ड को विभाग में लगाने के लिए विभाग के मंत्री के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया गया। उन्होंने कहा कि आंदोलन के अगले चरण में सभी विधायकों के आवासों पर प्रर्दशन कर छंटनी के खिलाफ ज्ञापन सौप कर छंटनी पर रोक लगाने की मांग की जाएगी। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने पहली जुलाई को किसी भी कर्मचारी को नौकरी से निकाला। तो सभी ठेका कर्मचारी कार्य का बहिष्कार करने पर मजबूर होंगे। जिसकी हर प्रकार की जिम्मेदारी सरकार व स्वास्थ्य विभाग की होगी। 

    उन्होंने कहा कि सरकार एक तरफ स्वास्थ्य विभाग के डाक्टरों, नर्सों व मेडिकल व पैरा मेडिकल स्टाफ को कोरोना योद्धा बताकर करोड़ों रुपए खर्च कर हेलीकॉप्टरों से पुष्प वर्षा, थालियां बजवाने और दीये चलाने का ढोंग कर रही है और दुसरी तरफ पिछले 6 महीने से अपनी जान को जोखिम में डालकर कोविड 19 के खिलाफ जंग लड़ने वाले डाक्टरों के मददगार सालों से काम करने वाले दस हजार से ज्यादा ठेका कर्मचारियों को 1 जुलाई से नौकरी से  निकालने पर तुली हुई है। जिसको किसी भी तरह बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। 

    पलवल से ऋषि  भारद्वाज की रिपोर्ट 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.