Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    जन्मभूमि परिसर में संग्रहालय बनाकर संरक्षित किए जाएंगे पुरावशेष

    जन्मभूमि परिसर में संग्रहालय बनाकर संरक्षित किए जाएंगे पुरावशेष



    अयोध्या। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की पावन नगरी अयोध्या के जन्मभूमि परिसर में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए समतलीकरण का कार्य चल रहा है । राम जन्मभूमि परिसर के पुराने गर्भगृह स्थल के समतलीकरण का कार्य श्री राम जन्म भूम तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की देखरेख में चल रहा है ।समतलीकरण के कार्य में प्राचीन मंदिर के अवशेष प्राप्त हो रहे हैं। संतों का कहना है कि यह पूरा अवशेष राम मंदिर की प्रमाणिकता को पुष्ट करने का काम कर रहे हैं ।इसलिए इसे संरक्षित किया जाना अति आवश्यक है और इसे जन्मभूमि परिसर में ही संग्रहालय बनाकर सुरक्षित करने की योजना बनाया जाना चाहिए। राम जन्मभूमि निर्माण के लिए राम जन्मभूमि परिसर में चल रहे समतलीकरण कार्य में मंदिर के जो अवशेष प्राप्त हो रहे हैं उसमें विभिन्न कलाकृतियां विभिन्न प्रकार के पत्थर देवी देवताओं की खंडित मूर्तियां  और शिवलिंग भी शामिल है ।इन अवशेषों के मिलने के बाद राम मंदिर की प्रमाणिकता को और बल मिला है।

    वही संतों का कहना है की पुरावशेष से यह साबित हो गया है कि मंदिर को तोड़कर ही विवादित ढांचा तैयार किया गया था।

     ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय का कहना है कि अभी समतलीकरण के दौरान और भी पूरावशेष  मिलेंगे इसे जिला अधिकारी और पुरातत्व विभाग की देखरेख में संरक्षित किया जाएगा साथ ही राम  मंदिर परिसर में एक संग्रहालय बनाया जाएगा जिसमें मंदिर निर्माण के दौरान मिल रहे अवशेष तथा 1992 में राम चबूतरा निर्माण के दौरान मिले अवशेष, 2013 में हुए खुदाई के दौरान मिले अवशेष को संरक्षित किया जाएगा, और इसे आम भक्तों के लिए दर्शनार्थ रखा जाएगा। इस को संरक्षित करने की रूपरेखा ट्रस्ट की बैठक में तय किया जाएगा। जैसा कि मानस भवन में संरक्षित है। 2003 में हुए खुदाई के अवशेष 12 मार्च से 7 अगस्त 2003 के बीच में विवादित स्थल पर खुदाई की गई थी, जिसमें 82 स्थानों पर गहरे खड्डे खोदे गए थे। राम चबूतरा निर्माण के दौरान की गई खुदाई ने भी मंदिर के मिले अवशेष रामकथा संग्रहालय में संरक्षित किया गया है । 22 जुलाई 1992 में  विश्व हिंदू परिषद की ओर से अधिग्रहीत परिसर में कार्य सेवा कराई गई थी। इस दौरान राम चबूतरे के निर्माण के लिए 12 फीट खुदाई कराई गई थी इस खुदाई में डेढ़ सौ से अधिक पूरावशेष  मिले थे पूरावशेष में उमा, महेश्वर की पाषाण प्रतिमा, विष्णु की पाषाण प्रतिमा, नंदी व कुबेर की पाषाण प्रतिमा के अलावा कई अन्य मूर्तियां मिली थी।

          देव बक्स वर्मा 
        आई एन ए न्यूज़ 
        अयोध्या उत्तर प्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.