Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    नूरपुर त्रिवेणी शुगर मिल के पास ट्राले ने ली बच्चे की जान


    नूरपुर त्रिवेणी शुगर मिल के पास ट्राले ने ली बच्चे की जान


    देवबंद ।  त्रिवेणी शुगर मिल के पास अपनी बीमार मां के लिए दवाई लेकर लौट रहे 2 नाबालिक भाइयों के ऊपर गन्ने से भरा ट्राला पलट जाने से एक भाई की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई जबकि उसका छोटा भाई बामुश्किल बच सका त्रिवेणी शुगर मिल के निकट नूरपुर चौराहा निवासी ज्ञानसिंह के पुत्र अपनी मां के लिए शुगर मिल की डिस्पेंसरी से दवाई लेकर लौट रहे थे घर दूर होने के कारण दोनों भाई मिल में गन्ना डालकर लौट रही भैसा बुग्गी पर बैठ गए अभी वह कुछ दूर ही गए थे कि गन्ने से भरा ओवरलोड ट्राला बुग्गी के ऊपर पलट गया गनीमत रही कि बुग्गी चालक तेजी के साथ बुग्गी से उतर गया और एक बालक को भी बुग्गी से खींच लिया लेकिन एक बालक बुग्गी पर ही गन्नो के नीचे दब गया जिसकी मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई बालक की मौत की सूचना से परिवार में कोहराम मच गया मौके पर पहुँचे परिजन व ग्रामीणों ने मिल प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि एक तो सड़क खराब है दूसरी ओर ओवरलोड गन्ने से भरे वाहनों की वजह से रोज हादसे हो रहे है लेकिन मिल प्रशासन न तो सड़क बना रहा है और न ही ओवरलोड गन्ने के वाहनों पर रोक लगा रहा है बालक की मौत की सूचना पर पहुँची पुलिस ने परिजनों को मुआवजे व कार्यवाही का आश्वासन दिया जिसके बाद देर रात शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया।

    पिता की जुबान से...

    मेरे बच्चे का नाम अर्जुन है उसकी उम्र 14 साल है 4 घंटे से भी ज्यादा हो गए कोई अधिकारी यहां मौके पर नहीं आया और मेरा बच्चा फ़िलहाल भी दबा हुआ है मेरे दोनों बच्चे दवाई लेने जा रहे थे यहां मील की डिस्पेंसरी में हल्की सी बूंदा बारिश आ गई यह वापस आ गए यह बूगी पर बैठकर आ रहे थे बुग्गी के ऊपर ट्रॉली पलट गई और वह बच्चा वही मर गया दबकर 5 घंटे हो गए अभी कोई कार्रवाई नहीं हुई है अगर चाहते तो मेरा बच्चा बच सकता था अगर यह कोशिश करते इन्होंने कोशिश नहीं की मैनेजर अपने कोठी पर पड़ा सो रहा है कोई अधिकारी मौके पर नहीं आया 4 घंटे से भी ज्यादा का समय हो गया है मैं इंसाफ चाहता हूं।

    जो यह देवबंद चीनी मिल है इसमें खाली बुग्गी पर बैठकर दो बच्चे जा रहे थे और एक लड़का 13- 14 साल का था और बगल से एक ट्रैक्टर ट्रॉली जो गन्ने से भरी हुई आ रही थी एक गड्ढे में उसका टायर पढ़ने से वह ट्रैक्टर ट्रॉली पलट कर बुग्गी के ऊपर गिर पड़ी दोनों सगे भाई बैठे हुए थे उसमें से बड़ा भाई किसी तरह बच के निकल गया लेकिन छोटा भाई जो अर्जुन है पुत्र ज्ञानचंद निवासी नूरपुर इसकी गन्ने में दबकर मृत्यु हो गई घटनास्थल पर ही और मिल के प्रबंध तंत्र बुलाया गया उन से वार्ता की गई है और उन्होंने अपनी तरफ से चार लाख नगद पीड़ित को देने की बात की है।

    शिबली इक़बाल

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.