Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    जब ग्रामीणों को पता चला कि कर्मा जीवित है तो


    जब ग्रामीणों को पता चला कि कर्मा जीवित है तो



    देवबंद।  देवबंद से 20 किलोमीटर गांव राजपुर में उस समय सभी लोग अचंभित रह गए जब ग्रामीणों को पता चला कि गांव से दो-तीन साल पहले कर्मा उर्फ कर्मसिंह  जिसकी दिमाग की हालत ठीक नहीं थी वह घर से सहारनपुर के पास रिश्तेदारी में गया था और वहां से वापिस घर नहीं लौटा कुछ दिन बाद परिजनों ने रिश्तेदारी में संपर्क किया तो वहां से उनको पता लगा कि कर्मा वहां से कुछ रोज पहले निकल चुका था जिसको लेकर परिजन चिंतित हुए और उन्होंने इधर-उधर तलाश किया मगर जब पता नहीं चला तो उन्होंने उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट पुलिस को दी कुछ रोज पहले ही कर्मा के छोटे बेटे प्रदुम को एक फोन से सूचना मिलती है कि उसका पिता बेंगलुरु में है और उसकी मानसिक स्थिति बिल्कुल ठीक है यह सुनते ही परिजनों में खुशी की लहर दौड़ गई और पूरे गांव में यह बात धीरे-धीरे फैल गई जब आज हमें गांव राजुपुर पहुंचे तो हमने लोगों से बातचीत की तो पता चला कि सभी लोग उनके आने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं.

    लोगों को यह उम्मीद नहीं थी कि कर्मा अब जीवित है और वह सकुशल गांव लौट आएगा जब हम कर्मा के घर पहुंचे तो हमारे पीछे पीछे भीड़ इकट्ठी हो गई और सभी लोग यह जानने को उत्सुक क्षेत्र की कर्मा कब आ रहा है जब हमने कर्म के छोटे बेटे प्रदुम से बात की तो उन्होंने बताया कि हमने तो अपने पिता के आने की आस ही छोड़ दी थी आपको बता दें कि कर्मा के परिवार में कर्मा का बड़ा बेटा संजय और छोटा बेटा प्रदुम तथा उसकी तीन बेटी हैं कर्मा के दोनों बेटों की शादी हो चुकी है और कर्मा की पत्नी बहुत साल पहले गुजर चुकी थी कर्मा हरिजन जाति से है बहुत ही गरीब है गुजारा करने के लिए कर्मा के पास बहुत ही कम खेती है.

    जिससे वह पूरे परिवार का पालन पोषण करता था जभ हमने गांव वालो से बात की तो उन्होंने बताया कि कर्मा का थोड़ा सा दिमाग से आउट था और सभी लोग उससे बहुत मजाक करते थे कर्मा से सभी काम कराते थे और कर्मा से जब पूछते क्या देना है तो वह कहता था जो मर्जी दे दो लोग उसको 20 रुफये या 30 रुफये या बीड़ी का बंडल दे देते थे जिससे कर्मा खुश होकर अपने घर चला जाता था लेकिन जब ग्रामीणों को आज पता चला कि कर्मा बिल्कुल ठीक हो गया है और वह जीवित है तो सभी लोग उसके आने की राह तक रहे हैं।

    शिबली इक़बाल

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.