Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बलिया के क्वारंटीन सेंटरों पर नहीं है कोई सुविधा, खाने-पानी को तरस रहे लोग


    बलिया के क्वारंटीन सेंटरों पर नहीं है कोई सुविधा, खाने-पानी को तरस रहे लोग

    बलिया। लॉकडाउन में दूसरे राज्यों में फंसे बलिया के लोगों को सरकार सूचीबद्ध तरीके से उनके गांव भेज रही है। प्रवासी मजदूरों को मेडिकल परीक्षण करने व उनको गांव के ही सरकारी व निजी स्कूलों में क्वांरटीन किया जा रहा है। लेकिन वहां उनके रहने व खाने के इंतजाम पर्याप्त नहीं हैं। 


    मैरीटार गांव के स्कूल के शौचालयों में ताला बंद है। कई स्कूलों में बिजली व पंखे का इंतजाम नहीं होने से लोगों का रहना मुश्किल हो रहा है। केवटलिया कला में तो प्रधान द्वारा स्कूल ही नही खोलवाया गया। उस गांव के प्रवासी मजदूर पोल्ट्री फार्म में रहने को विवश हैं। 

    इस बाबत उपजिलाधिकारी बांसडीह दुष्यंत कुमार मौर्य ने कहा कि नया शासनादेश आया है कि जो भी प्रवासी मजदूर बाहर से आ रहे हैं वे अनावश्यक स्कूलों व अन्य स्थानों पर न रहें। वे मेडिकल करा कर अपने अपने घर चले जाएं और वहीं होम क्वारंटीन रहें।

    संजय राजपूत
    रीजनल एडिटर गोरखपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.