Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    मंगलवार की दोपहर में तेज आंधी के साथ मूसलाधार बारिश ओले भी गिरे



    मंगलवार की दोपहर में तेज आंधी के साथ मूसलाधार बारिश ओले भी गिरे

    सीतापुर। मंगलवार की दोपहरिया एक बजे अचानक अपना रूख बदल कर किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरे खींच दी हैं, सुबह से निकली तेज चटक धूप के बाद एकाएक दोपहर में तेज आंधी तूफान के साथ मूसलाधार बारिश चौतरफा शुरू हो गई,  आंधी पानी के साथ जमकर ओले पत्थर भी गिरे |




    क्षेत्र में अभी तक रबी की मुख्य फसल गेंहू की कटाई चल रही है,  कोरोना महामारी के चलते पहले ही गेंहू की कटाई लेट चुकी है, जिसके चलते किसान दिन रात एक करके खेतों में सपरिवार गेंहू की कटाई व मड़ाई में लगा हुआ है, जिसके चलते किसान हर काम छोड़ बस कैसे भी अपनी फसल को घर तक पहुंचाने में लगा है,  पर आए दिन हो रही बेमौसम बरसात ने उसकी चिंताए बढ़ा दी हैं,  क्षेत्र के गाँव ढेढुराई निवासी कृषक शक्तिमान यादव बताते हैं कि हम छोटे बड़े किसानों की गेंहू ही मुख्य फसल होती है, जिससे हम किसान साल भर अपने परिवार का पेट भरने के साथ ही फसल बेचकर अन्य खर्च भी इसी से निकालते हैं,  परन्तु बेमौसम ओले पत्थर व पानी गिरने से गेंहू की बाली का दाना झर कर गिर जा रहा है,  ग्राम मिश्रापुर के पूर्व प्रधान व बड़े कास्तकार मो. रफी अहमद कहते हैं कि अभी पिछले हफ्ते हुई बारिश के बाद गेंहू की फसल सूख भी नहीं पाई थी, कि मंगलवार को हुई जबरदस्त बरसात ने फसल को फिर से गीला कर दिया,  वो बताते हैं कि जब तक गेंहू सूख नहीं जाता तब तक उसकी कटाई संभव नहीं है |


            शिक्षक व किसान मुस्तफा अली खान बताते हैं कि हलांकि जिले में लगभग 70 फीसदी गेंहू की कटाई हो चुकी है, फिर भी इस मूसलाधार बारिश व ओलो ने किसानों को खासा परेशान कर दिया है, सच तो यह है कि छोटे किसान बरबादी की कगार पर पहुंच गया है |

         गेंहू के साथ ही इस ओले पत्थर ने आम की भी फसल को अच्छा खासा नुकसान पहुंचाया है, जिससे आम बागबानों के चेहरो पर भी चिंता की लकीरे खींच दी हैं। क्षेत्र में हुई मूसलाधार बारिश से कई पेड़ टूटकर नीचे गिर गए, जिससे नगर क्षेत्र के कई मकान क्षतिग्रस्त हुए।

     शरद कपूर
    आई एन ए न्यूज़ सीतापुर  - उत्तर प्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.