Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या में कोरोना के कारण गांवों जा रहीं 2 गर्भवती महिलाओं ने बच्चों को दिया जन्म



    अयोध्या में कोरोना के कारण गांवों जा रहीं 2 गर्भवती महिलाओं ने बच्चों को दिया जन्म

    अयोध्या।कोरोना  संक्रमण से तंग आकर गैर प्रदेश में कार्य कर रहे श्रमिक  अपने बच्चों के साथ अब  अपने अपने गांव की तरफ लौट रहे हैं उसमें तमाम गर्भवती महिलाएं भी शामिल है  जो रास्ते में ही प्रसव पीड़ा से  तंग आकर बच्चे को जन्म दे रही है ।


    कोरोना महामारी के चलते लाक डाउन में एक राज्य से दूसरे राज्य में पलायन कर मजदूरों का बुरा हाल है। यहां तक कि महिलाएं रास्ते में ही बच्चों को जन्म दे रही है। ट्रक से दिल्ली से अंबेडकरनगर जा रही एक महिला ने एनएच 28 हाईवे पर अयोध्या जनपद के थाना रौनाही के सोहावल चौराहे के पास ट्रक पर जब प्रसव पीड़ा शुरू हुई तो सड़क किनारे रौनाही गांव की स्थानीय महिलाओं ने उसका सफल प्रसव कराया।जच्चा बच्चा दोनो स्वस्थ होने के बाद उसके गृह जनपद अंबेडकरनगर के लिए भेजा गया। 

       वहीं दूसरी तरफ शहर के जीआईपी स्कैनिंग सेंटर में भी एक महिला ने बच्चे को जन्म दिया।मौके पर मौजूद आशा बहू ने स्कैनिंग सेंटर में ही सफल प्रसव कराया।महिला ने पुत्र रत्न को जन्म दिया।सूचना मिलने पर आनन-फानन में एंबुलेंस मगाकर उसे जिला महिला अस्पताल भर्ती कराया गया।

     विभिन्न राज्यों से मजदूरों की आमद तेजी से चल रही है अपने गांव पहुंचने के लिए बड़े-बड़े शहरों से निकल चुके हैं। अपने किसी भी हालत में हर हाल से गांव पहुंचना चाहते हैं ।

    अयोध्या पहुंची यह महिला अपने पति के साथ पंजाब के अंबाला से सहारनपुर आई फिर सहारनपुर से रोडवेज बस द्वारा उसे अयोध्या लाया गया जहां पर जीआईसी स्कैनिंग सेंटर में थर्मल स्कैनिंग के दौरान महिला को प्रसव पीड़ा शुरू हुई। जिसके बाद मौके पर मौजूद स्वास्थ विभाग की आशा बहू ने सेंटर के एक कमरे में ले जाकर सफल प्रसव कराया।महिला अयोध्या जनपद के थाना कुमारगंज क्षेत्र के इसौली भारी की रहने वाली है। सिटी मजिस्ट्रेट सत्यप्रकाश ने बताया कि लाक डाउन के चलते कामगार अन्य प्रदेशों से अपने गृह जनपद पहुंच रहे हैं इसी क्रम में यह महिला अपने पति के साथ अयोध्या आई थी जहां पर थर्मल स्कैनिंग के दौरान उसे प्रसव पीड़ा हुई तो मौके पर मौजूद आशा बहू ने सफल प्रसव कराया। जच्चा और बच्चा दोनों स्वस्थ हैं। महिला को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां पर उसका इलाज चल रहा है। इलाज पूर्ण होने पर उसको उसके गांव कुमारगंज के इसौली भारी पहुंचा दिया जाएगा।

    देव बक्श वर्मा

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.