Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    संभल में फंसे दिल्‍ली के 10 स्‍टूडेंट, काट रहे गेहूं



    संभल में फंसे दिल्‍ली के 10 स्‍टूडेंट, काट रहे गेहूं

    संभल/यूपी। लॉकडाउन के चलते दिल्ली के 10 स्टूडेंट्स उत्तर प्रदेश के संभल के असालतपुर जारई गांव में 44 दिन से फंसे हैं। ये छात्र 21 मार्च की सुबह गढ़मुक्तेश्वर गंगा नहाने आए थे लेकिन पहले जनता कर्फ्यू और फिर लॉकडाउन की वजह से वापस नहीं जा पाए। ऐसे में सभी छात्र दिल्ली में पंजाबी बाग के रहने वाले शीतल के रिश्ते के मामा भगवान कुमार के यहां जा पहुंचे। 


    भगवान पत्नी और तीन बच्चों के साथ छोटे से घर में रहते हैं। लॉकडाउन के कारण वह भी बेरोजगार हो गए। मामा की माली हालत खस्ता देखकर इन छात्रों ने गेहूं काटकर पैसे जुटाए। छात्रों ने पीएम मोदी से मदद की गुहार की है। संभल के एसडीएम केके अवस्थी ने बताया कि जो लोग यहां फंसे हैं वह मेरे वॉट्सऐप नंबर 8831936514 पर अपना प्रार्थना पत्र भेज सकते हैं। 

    शीतल ने बताया कि संभल में छोटे से घर में हम दस स्टूडेंट्स के लिए ठहरना संभव नहीं था। इसके बाद पड़ोस में रहने वाले मामा के बड़े भाई का कमरा हम लोगों को दिया गया। हम उसमें ठहर गए लेकिन सभी दोस्तों के पैसे खत्म हो गए। मामा की आर्थिक हालत भी अच्छी नहीं है। इसके बाद हमने गेहूं की कटाई के लिए गांववालों से संपर्क किया और काम मिल गया। हमें गेहूं काटना नहीं आता था लेकिन जेब खर्च के लिए हमने काम किया। शीतल ने बताया कि गेहूं कटाई से हमारे साथियों करन को 200 रुपये, सोनू, गौतम और सुमित 100-100 रुपये और आकाश को 150 रुपये मिले।

    प्रबंध संपादक कृष्ण गोपाल गुप्ता की रिपोर्ट


    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.