Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    माध्यमिक शिक्षक संघ करोना संक्रमण के चलते कॉपियों का मूल्यांकन


    माध्यमिक शिक्षक संघ करोना संक्रमण के चलते कॉपियों का मूल्यांकन

    मूल्यांकन सेंटर के बजाय घर से करने की मांग

    अयोध्या। हाईस्कूल/इंटरमीडिएट की कॉपियों की मूल्यांकन का कार्य 5 मई से शुरू होना है लेकिन  कॉपियों का मूल्यांकन माध्यमिक शिक्षक संघ करेगा विरोध। माध्यमिक शिक्षक संघ के मुताबिक कोरोना महामारी के दौरान  कापियों के मूल्यांकन में शिक्षकों के जान का खतरा। कल 5 मई से शुरू हो रहा है बोर्ड की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन का कार्य।

    उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ कल दिनांक 5 मई 2020 से शुरू होने वाली यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की कॉपियों का मूल्यांकन का बहिष्कार करेगा।


    इसी मुद्दे को लेकर उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के जिला अध्यक्ष राकेश पांडे की अगुवाई में एक बैठक हुई।जिसका संचालन जिला मंत्री आलोक तिवारी ने किया।

    बैठक में मंडलीय अध्यक्ष रामानुज तिवारी जिला अध्यक्ष राकेश पांडे जिला मंत्री आलोक तिवारी तथा जिला उपाध्यक्ष तथा मीडिया प्रभारी संजीव चतुर्वेदी ने एक स्वर से  कड़ी आलोचना  करते हुए कहा सरकार से उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष तथा विधान परिषद शिक्षक विधानमंडल दल के नेता ओम प्रकाश शर्मा जी द्वारा मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी उपमुख्यमंत्री तथा शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी जी को पत्र  लिखा गया। जिसमें वैश्विक महामारी करोना के चलते प्रदेश में संक्रमण काल चल रहा है जहां पूरे देश में लॉक  डाउन की स्थिति है और सामूहिक कार्यों पर रोक लगी हुई है।

    ऐसी स्थिति में मूल्यांकन केंद्रों पर शिक्षकों से कॉपी जचबाना शिक्षकों की जान से खिलवाड़ करना है । शिक्षकों से मूल्यांकन केंद्र पर  कॉपी जचवाने के बजाय  उन्हें घरों पर भेज कर कॉपी घरों पर ही जचवाने की मांग की गई है।

    शिक्षकों ने माध्यमिक शिक्षा विभाग की कार्यशैली पर भी सवाल उठाया उन्होंने दो टूक कहा अगर कॉपी घर नहीं भेजी जाएगी तो शिक्षक किसी भी कीमत पर मूल्यांकन केंद्र पर कॉपी जांचने नहीं जाएगा । क्योंकि जानबूझकर विभाग ऐसी स्थिति में जबकि कोरोना जैसी घातक बीमारी रोज बढ़ रही है उसके मरीजों की संख्या बढ़ रही है ऐसी स्थिति में वह शिक्षकों को मूल्यांकन केंद्रों पर बुला रही है जबकि है संसाधन चल नहीं रहे कुछ शिक्षक गैर जनपदों में अपने घरों पर हैं जो आ नहीं सकते महिला शिक्षक बिना संसाधन के मूल्यांकन केंद्रों पर स्वयं जा नहीं सकती ऐसी स्थिति में मूल्यांकन शुरू कराना शिक्षकों का उत्पीड़न है।


    देव बक्श वर्मा
    आई एन ए न्यूज़ अयोध्या - उत्तर प्रदेश


    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.