Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कोरोना की मार झेल रहे फूलों की खेती कर रहे किसान, लॉकडाउन के चलते लाखों का नुकसान


    कोरोना की मार झेल रहे फूलों की खेती कर रहे किसान, लॉकडाउन के चलते लाखों का नुकसान


    सहारनपुर। कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते लॉकडाउन से फूलों की खेती करने वाले किसान भी खासे परेशान हैं। लॉक डाउन की वजह से उनके खेतों के फूल का बाज़ार में कोई ख़रीदार नहीं है। फूलों की मंडी भी फ़िलहाल बंद है। इसलिए किसान मजबूरी में फूलों के पेड़ों को बचाने के लिए हज़ारों फूल तोड़कर फेंक रहे हैं। क्योंकि अगर इस फूल को तोड़ा ना गया तो फूलों की पौध ख़राब हो जाएगी। बाजार में फूलों का ग्राहक ना होने की वजह से किसान के पास फूलों को फेंकने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।




    कोरोना की मार झेल रहे फूलों की खेती कर रहे किसान, लॉकडाउन के चलते लाखों का नुकसान


    फूलों की खेती करने वाले किसान ने बताया कि लॉक डाउन से पहले उनका सारा फूल दिल्ली फूलों की मंडी में ज़ाया करता था। लेकिन लॉक डाउन के बाद से फूल खेतों में ही सड़ने लगा। इसलिए फूलों को तोड़कर खाद की ढेरी पर डाल रहे हैं। एक और तो फूल ना बिकने का नुक़सान है। दूसरी और फूलों के पौधों पर दवाओं का छिड़काव, खेतों में काम करने वाली लेबर की तनख़्वाह इत्यादि सारे खर्चे ज्यों के त्यों है। लगभग 2-3 लाख रुपए का महीने का नुक़सान इस समय किसानों को हो रहा है। किसानों के मन में इस समय चिंता सता रही है कि लाखों रुपए लोन लेकर लगाए गए फूलों के पोली हाउस की अब किश्तें भी चुकाने के लिए मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।
    देश दीपक शर्मा आई एन ए न्यूज़ सहारनपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.