Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    दारूल उलूम देवबंद ने जारी किया फतवा कोरोना का टेस्ट करने से नही टूटता है रोजा



    दारूल उलूम देवबंद ने जारी किया फतवा कोरोना का टेस्ट करने से नही टूटता है रोजा 

    देवबंद। विश्व विख्यात शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद आए दिन अपने फतवो को लेकर सुर्खियों में रहता है दारुल उलूम देवबंद से आए दिन फतवे जारी होते रहते हैं इस बार भी दारुल उलूम देवबंद ने रोजे की हालत में कोरोना  का टेस्ट कराने को लेकर फतवा जारी किया है 




    दारुल उलूम देवबंद ने फतवा जारी करते हुए बताया है कि रोजे की हालत में अगर कोई शख्स कोरोना का टेस्ट करता है तो रोजा नहीं टूटता है क्योंकि कोरोना के  टेस्ट की लिए जों ट्यूब नाक ओर हलक में डाली जाती है जिसमे कोई किसी भी प्रकार की कोई दवाई या केमिकल नहीं होता है जिससे इंसान के जिस्म में  कोई चीज नही जा पाती है  और रोजा टूटने का खतरा नही होता है बल्कि  हलक के जरिए जो लाबाब होता है उसको सुखी रुई से  निकाला जाता है  जिससे रोजा नहीं टूटता है इस वजहें से टेस्ट करवाने में को हराज नहीं है इसलिए टेस्ट करा लेना चाहिए।


    आपको बता दें कि मुफ्ती अरशद अली बानी व नाजिम मरकज दवतुल सिद्दिक सुहरा बिजनौर के एक व्यक्ति ने दारुल उलूम देवबंद के दारुल इफ्ता विभाग से सवाल पूछा था की क्या करोना का टेस्ट कराने से रोजा टूटता है या नहीं इस पर दारुल उलूम के फतवा विभाग के मुफ्तियों इकराम ने जवाब देते हुए बताया है कि करोना जैसे महामारी बीमारी का टेस्ट करवाने से रोजा नहीं टूटेगा क्योंकि जो ट्यूब नाक ओर हलक में दी जाती है उस पर कोई दवा या ऐसे कोई चीज नहीं होती जो पेट के अंदर जाती हो इसलिए रोजा नही टूटता है इसका टेस्ट करा लेना चाहिए यह जायज है ।

    वही दारुल उलूम देवबंद के फतवे का देवबन्दी उलेमाओ ने समर्थन करते हुए प्रसिद्ध देवबंदी उलेमा मौलाना कारी इस्हाक़ गोरा और मुफ्ती अज़हर क़ासमी ने कहा है कि दारूल उलूम देवबंद ने जो फतवा दिया है वो बिल्कुल सही है उलेमाओं ने कहा कि मुस्लिम समुदाय का सबसे पवित्र महीना माहे रमजान चल रहा है जिसके चलते मुस्लिम समुदाय के लोगों में रोजे टूटने का खासतौर से डर रहता है  कि हम अगर कोरोना जैसे महामारी बीमारी का टेस्ट रोज़े में कराते हैं तो क्या हमारा रोजा टूट जाएगा जबकि दारूल उलूम देवबंद ने फतवा भी दे दिया है कि कोरोना जैसी महामारी बीमारी का टेस्ट कराने में रोजा नहीं टूटता है इसलिए अब जिसको जरूरत लगे कि उसको टेस्ट कराने की आवश्यकता है वह करा सकता है यह टेस्ट कराने में रोजा नही टूटता है ।


    देवबंद से शिबली इक़बाल की रिपोर्ट..

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.