Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    इटावा जिला कारागार में कैदियों के दो गुटों में बवाल, 1 की मौत


    इटावा जिला कारागार में कैदियों के दो गुटों में बवाल, 1 की मौत


    इटावा, 2 अप्रैल उत्तर प्रदेश के इटावा जेल में बुधवार को कैदियों के दो गुटों में जमकर बवाल हुआ। इस बवाल में घायल हुए सोनू पहाड़ी की इलाज के दौरान गुरुवार को मौत हो गयी।



    दरअसल, इटावा जेल में बुधवार को हुए बवाल में बचाव को आए जेल अफसरों, नंबरदार और बंदी रक्षकों पर बंदियों ने हमला बोल दिया था। इसमें डिप्टी जेलर समेत एक दर्जन बंदी व एक दर्जन से ज्यादा जेल कर्मी और कैदी घायल हुए थे।

    गंभीर रूप से घायल मुन्ना खालिद, मोनू पहाड़ी समेत बंदियों का इलाज किया जा रहा था। वहीं घायल नंबरदार को सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी भेजा गया था।

    जेल अधिकारियों के अनुसार कैदी मोनू पहाड़ी उर्फ राशिद की मौत हो गई। वही डिप्टी जेलर जगदीश प्रसाद एवं एक और कैदी मुन्ना खालिद को गंभीर हालत में सैफई पीजीआई रेफर किया गया है।

    जेल अधीक्षक राज किशोर ने बताया कि, "आगरा और कानपुर से लाए गए बन्दी मुन्ना खालिद निवासी आगरा व गोलू पहाड़ी निवासी कानपुर ने बुधवार शाम कैदी छुन्ना 28 पुत्र श्रीचंद पर पेड़ की डाल तोड़कर हमला बोल दिया। जानकारी होने पर डिप्टी जेलर जगदीश प्रसाद बन्दी रक्षकों के साथ पहुंचे। कैदी डिप्टी जेलर व बन्दी रक्षकों पर भी हमलावर हो गए। मारपीट में छुन्ना, डिप्टी जेलर जगदीश समेत 14 लोगो को चोटें आई हैं।"

    उन्होंने बताया कि, "डिप्टी जेलर जगदीश प्रसाद,बन्दी नम्बरदार छुन्ना तथा बन्दी मुन्ना खालिद पुत्र अब्दुल रहीम व मोनू पहाड़ी उर्फ राशिद पुत्र नासिर अली को गंभीर रुप से चोटिल होने पर जिला अस्पताल भेजा गया है और पूरे प्रकरण के संबंध में एसएसपी इटावा द्वारा थाना सिविल लाइन को आवश्यक विधिक कार्यवाही के लिए निर्देशित दिया है।"

    उन्होंने बताया कि स्थिति को नियंत्रित करने के लिए कर्मचारियों ने हल्का बल प्रयोग किया, जिसमें 18 कैदी घायल हो गए। हेड कांस्टेबल पुरुषोत्तम सिंह और कैदी चुन्ना नंबरदार को सिर में चोटें आई थीं। चुन्ना को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

    स्थिति को नियंत्रित करने के लिए एसएसपी सहित कई पुलिस स्टेशनों के पुलिस बल और पीएसी बल को बुलाया गया था। अन्य घायल कैदियों का इलाज जेल के अस्पताल में चल रहा है। स्थिति को नियंत्रित करने के लिए कई थानों की पुलिस और पुलिस अधिकारियों को अंदर बुलाना पड़ा।

    वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, आकाश तोमर ने कहा कि "स्थिति अब नियंत्रण में थी और घटना की जांच का आदेश दिया गया है।


    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.