Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    मुंशी प्रेमचन्द्र द्वारा रचित बूढ़ी काकी को जितनी बार देखा जाये कम लगता हैः-पुलकित खरे



    बूढ़ी काकी एहसास की परिधि के ऊपर उठकर उच्चकोटि की प्रस्तुति हैः-जिलाधिकारी


    उत्तर प्रदेश-हरदोई:- 07. विगत 09 जून देर सायं-रसखान पे्रक्षागृह में मुंशी प्रेमचन्द्र द्वारा रचित एवं अभिषेक पण्डित द्वारा निर्देशित बूढ़ी काकी नाटक का सजीव मंचन/प्रदर्शन किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ जिलाधिकारी पुलकित खरे एवं मुख्य विकास अधिकारी आनन्द कुमार ने दीप प्रज्जवलित कर किया। 

    मुंशी प्रेमचन्द्र द्वारा रचित बूढ़ी काकी को जितनी बार देखा जाये कम लगता हैः-पुलकित खरे

    आज इक्कीसवी सदी के युग में कलाकारों के अनूठे अभिनय से लोगो को आकर्षित कराने वाले अभिषेक पण्डित एवं उनकी टीम ममता पण्डित, संदीप कुमार, अंगद कुमार, ज्ञानेन्द्र यादव, शशिकान्त कुमार, रितेश रंजन, डा0 अलका सिंह ने बूढ़ी काकी का सजीव चित्रण कर लोगो का मन मोह लिया। प्रकाश परिकल्पना से नाटक के मंचन में चार चाॅद लगाने वाले महमूद अहमद एवं साउण्ड परिकल्पना को महेश सूफी ने सजाया था। 

    बूढ़ी काकी एहसास की परिधि के ऊपर उठकर उच्चकोटि की प्रस्तुति हैः-जिलाधिकारी

    इस अवसर पर जिलाधिकारी पुलकित खरे ने अपने सम्बोधन में कहा कि मंच विधा में आज भी कुछ खास है। जिसे लोग आज भी उतनी ही रूचि से देखते है। मोबाइल के युग में आज भी मंच का अपना अलग ही महत्व है। उन्होने कहा कि अभिषेक पण्डित एवं उनकी टीम ने आज भी मंचन विधा का जिन्दा रखा है। मुंशी प्रेमचन्द्र द्वारा रचित बूढ़ी काकी को जितनी बार देखा जाये कम लगता है। बूढ़ी काकी एहसास की परिधि के ऊपर उठकर उच्चकोटि की प्रस्तुति है। इस अवसर पर जिला प्रशासन की तरफ से समस्त कलाकारो को मुंशी प्रेमचन्द्र के चित्र भेट की फोटो प्रदान की गई। 

    इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी संजय कुमार सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक ज्ञानन्जय कुमार सिंह, नगर मजिस्टेªट गजेन्द्र कुमार, जिला विकास अधिकारी राजितराम मिश्र, एलडीएम, नगर पालिका अध्यक्ष मधुर एवं फखरूल इस्लाम उर्फ फक्कन सहित जनपद के गणमान्य लोग उपस्थित रहे। 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.