Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    पत्रकार स्थायी समिति में पत्रकारों के उत्पीड़न के मामले प्रमुखता से उठाये गये


    पत्रकारों के उत्पीड़न से संबन्धित प्रकरणों का निस्तारण प्रमुखता से किया जाये-मुख्य विकास अधिकारी

    फिल्म प्रमोशन एण्ड फेसेलिटेशन कमेटी एवं निजी दूरदर्शन चैनल निगरानी समिति की बैठकें संपन्न।

    हरदोई, मुख्य विकास अधिकारी आनन्द कुमार की अध्यक्षता में पत्रकार स्थायी समिति, फिल्म प्रमोशन एण्ड फेसेलिटेशन कमेटी एवं निजी दूरदर्शन चैनल निगरानी समिति की बैठकें संपन्न। फिल्म प्रमोशन एण्ड फेसेलिटेशन कमेटी एवं निजी दूरदर्शन चैनल निगरानी समिति की बैठकों में कोई भी प्रकरण लंबित नही पाया गया और  न ही कोई नवीन प्रकरण प्राप्त हुआ। वही जिला स्तरीय पत्रकार स्थायी समिति में एक प्रकरण पुराना एवं एक नवीन प्रकरण समिति के समक्ष प्रस्तुत किया गया। 


    जिला पत्रकार स्थायी समिति की बैठक में सहायक निदेशक कुमकुम शर्मा ने गत बैठक की पुष्टि करते हुए मान्यता प्राप्त पत्रकार ओम प्रकाश गुप्ता के साथ बस परिचालक एवं टी0आई0 द्वारा किये गये अभद्र व्यवहार के क्रम में ए0आर0एम0 रोडवेज द्वारा दी गई सूचना के क्रम में बताया कि परिवहन विभाग द्वारा कार्यवाही करते हुए उन दोनों कार्मिकों का स्पष्टीकरण तलब किये जाने एवं उनके तबादले की जानकारी उपलब्ध करायी। जिस पर पत्रकार सदस्यों द्वारा घोर नाराजगी प्रकट की गई तथा उन दोनों कार्मिकों का निलंबन किये जाने की मांग रखी।


    पत्रकार स्थायी समिति में पत्रकार विजय लक्ष्मी सिंह के उत्पीड़न के मामले को प्रमुखता से उठाया गया.

    इसी प्रकार सहायक निदेशक सूचना ने पत्रकार उत्पीड़न से संबन्धित नवीन प्रकरण को समिति के समक्ष रखते हुए  विजय लक्ष्मी एडिटर इन चीफ इनीसिएट न्यूज एजेन्सी एवं स्वतन्त्र उजाला न्यजू पेपर की मुख्य संपादक के द्वारा दिये गये प्रार्थना पत्र के क्रम में बताया कि 

    पत्रकार विजय लक्ष्मी द्वारा सुनील तिवारी उर्फ उमा शंकर तिवारी का मकान तीन वर्ष के लिए लिया था। आवश्यक सुविधाओं पर मकान में उनके द्वारा तीन लाख की धनराशि भी खर्च की गई। 

    एक वर्ष के अन्दर ही मकान खाली कराये जाने का जोर मकान मालिक द्वारा किया जाने लगा। जिस पर पत्रकार विजय लक्ष्मी द्वारा न्यायालय में किरायेदारी का वाद दाखिल किया गया।

    विपक्षियों द्वारा उनकी छवि धूमिल किये जाने हेतु प्रिन्ट एवं सोशल मीडिया में अपमान जनक लेख निकाले गये। वही पुलिस विभाग द्वारा बिना उच्चाधिकारी के जाॅच कराये ही संगीन धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया। 

    बैठक में मौजूद पीढ़ित पत्रकार विजय लक्ष्मी ने बताया कि उन पर लगाये गये आरोप बेबुनियाद है। मेरी मकान कब्जाने की कोई भी मन्शा नही थी, जबकि मेरे द्वारा मकान मालिक को मकान की चाभी भी सौप दी गई है। मकान मालिक से एक सप्ताह का समय भी लिया जा चुका है। सामान सिफट किये जाने हेतु। इसके बावजूद विपक्षियों द्वारा मुझे झूठे केस में फसाया गया है। उन्होने उचित न्याय की मांग की।

    इस संबन्ध में पत्रकार स्थायी समिति के सदस्यों द्वारा घोर निन्दा प्रकट की और कहा कि शासन व प्रशासन द्वारा पूर्व में ही स्पष्ट किया जा चुका है कि पत्रकारों से संबन्धित प्रकरणों में कार्यवाही किये जाने से पूर्व उच्चस्तरीय जाॅच कर ली जाये। तभी उन पर कोई कार्यवाही अमल में लायी जाये। परन्तु पुलिस द्वारा उच्च स्तरीय जाॅच के किये बिना ही पत्रकारों पर कार्यवाही कर दी जाती है। जो कदाचित उचित नही है। उन्होने पत्रकार विजय लक्ष्मी के विरूद्व की गई एकतरफा कार्यवाही की निन्दा की तथा प्रकरण की उच्च स्तरीय जाॅच कराकर स्पंजे किये जाने की मांग की। इस पर मुख्य विकास अधिकारी ने प्रकरण की गंभीरता को दृष्टिगत सी0 ओ0 अखिलेश राजन को आवश्यक कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये। 

    जिला ग्रामीण पत्रकारी एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष एवं विशेष आमन्त्री सदस्य अनुराग अस्थाना ने मांग करते हुए कहा कि वी0आई0पी0/वी0वी0आई0पी0 की सूचना पत्रकारों को ससमय उपलब्ध करायी जाये, प्रेस लिखे वाहनों की जाॅच करायी जाये, ताकि असली व नकली की पहचान हो सके। इसके अतिरिक्त श्री अस्थाना द्वारा पूर्व से प्राविधानित कि पत्रकारों से संबन्धित प्रकरणों में उच्चाधिकारी की जाॅच के बिना कोई कार्यवाही न की जाये। साथ ही उन्होने यह भी कहा कि हाल ही में कई प्रकरणों में बिना उच्चाधिकारी की जाॅच के बिना मुकदमें दर्ज किये गये। इस पर मुख्य विकास अधिकारी ने सी0ओ0 को समिति द्वारा पूर्व में लिए गये निर्णयों के अनुपालन कराये जाने के निर्देश दिये।


    अन्त में पत्रकार सदस्यों विजय शंकर पाण्डेय, कलीम उल्ला फारूकी, आनन्द अस्थाना द्वारा मांग की गई कि जिला पत्रकार स्थायी समिति में शासनादेशानुसार जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक उपस्थिति अनिवार्य हो ताकि शासन की मन्शा के अनुरूप पत्रकारों से संबन्धित गंभीर प्रकरणों का निराकरण तत्काल हो सके। अन्यथा की स्थित में वह भविष्य की  बैठकों का बहिष्कार करेंगे। 



    बैठक में सी0ओ0 अखिलेश राजन, सहायक वाणिज्य कर आयुक्त इन्द्रभान वर्मा, नरेश चन्द्र शुक्ल, पत्रकार विजय पाण्डेय, कलीम उल्ला फारूकी, अनुराग अस्थाना, अभय शंकर गौड़ आदि मौजूद रहे । 



    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.