Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    नैतिकता के आधार पर सोहिल सिद्दी ने सपा से दिया इस्तीफा


    बदायूं :- सपा की बदायूं में हार के बाद युवजन सभा के प्रदेश सचिव सोहिल सिद्दीकी ने नैतिकता के आधर पर पार्टी से इस्तीफा दिया हमने उनसे मुलाकात करके जाना आखिर कियों दिया इस्तीफा उन्होंने कहा


    माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष राष्ट्रीय अध्यक्ष समाजवादी पार्टी द्वारा जिला अध्यक्ष समाजवादी पार्टी बदायूं बदायूं जो नेत जी ने अपना घर माना था समाजवादी लोग और विपक्षी पार्टी के लोग जिसे समाजवादी पार्टी का गण मानते थे 

    1991 के बाद से बदायूं में कभी समाजवादी पार्टी ने हार का मुंह नहीं देखा यहां तक 2014 में जब पूरे देश में मोदी लहर थी तब भी बदायूं से धर्मेंद्र यादव 1065000 वोटों से जीते थे शायद यही सोचकर नेत जी ने धर्मेंद्र यादव अपने भतीजे को बदायूं की कमान दी थी 

    लेकिन आज 2019 में समाजवादी पार्टी आज तक तक कि अपने गठन के बाद शून्य पर है जो समाजवादी पार्टी मुख्य विपक्षी पार्टी थी उसकी उत्तर प्रदेश में इस वक्त  लोकसभा में 5 सीटें हैं बदायूं जो जीती हुई सीट थी जिसमें सांसद धर्मेंद्र यादव जी ने अबूथपूर्व विकास कार्य कराए बदायूं को विकास के रास्ते पर ले जाने में उनकी भूमिका अहम रही सांसद जी ने  स्वास्थ्य शिक्षा सड़कें बिजली पानी जो शहर की मूलबूथ समस्याएं थी उनको किसी हद तक जड़ से खत्म किया लेकिन आज धर्मेंद्र यादव जैसे इंसान को भी हार का मुंह देखना पड़ा पूरे जिले की समाजवादी पार्टी राष्ट्रीय समाजवादी  की समाजवादी पार्टी को चिंतन मंथन करने की जरूरत है इतने दुखद प्रणाम किसी ने भी आशा नहीं की थी  

    लेकिन कुछ नेतगण हार की जिम्मेदारी से अभी भी बचते हुए नजर आ रहे हैं  मेने स्वर्गीय बनवारी सिंह के  नेतृत्व में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र राजनीति के बाद जिले में समाजवादी पार्टी  विधिवत रूप से कार्यकर्त के रूप में ज्वाइन की थी मे 2006 से बदायूं नगरपालिका के इलेक्शन के समय से मदरसा आलिया का दरिया  का  बूथ प्रभारी हूं आज तक मेने यही कोशिश की है मेरा बूथ समाजवादी पार्टी हमेशा जीते और हाल इलेक्शन में समाजवादी पार्टी ने मदरसा कादरिया बूत  जीत हासिल की है मेरा वूत से इस लोक सभा इलेक्शन में भी प्रत्याशी धर्मेंद्र यादव जीते इस  इलेक्शन मे मुस्लिम समाज ने गठबंधन को भरपूर समर्थन और वोट दिया मुस्लिम इलाकों में हर बूथ पर समाजवादी पार्टी जीती है लेकिन इस इलेक्शन में समाजवादी पार्टी का परंपरागत यादव बोर्ड कुछ खिसक गया जिसका हमें दुख है उसके बाद भी कुछ नेता हार की जिम्मेदारी लेने से बचना चाह रहे हैं  

    मैंने  नैतिकता के आधार पर इस हार की जिम्मेदारी को भी निभाना चाहता हूं मैं सोहेल सिद्दीकी प्रदेश सचिव यू जनसभा समाजवादी पार्टी अपने प्रदेश सचिव पद से हार की जिम्मेदारी लेते हुए नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देता हूं और मैं प्रदेश नेतृत्व से और जिला अध्यक्ष बदायूं से यह अनुरोध करूंगा कि मैं बूत  प्रभारी की हैसियत से पार्टी की सेवा करता रहूंगा मैं पार्टी के  कार्यकर्ता की हैसियत से ही पार्टी की में काम करना चाहता हूं मैं पूरी निष्ठा से सांसद धर्मेंद्र यादव जी के साथ हूं संकट और दुख की घड़ी में सांसद जी का कार्यकर्ता की हैसियत से हौसला बढ़ाना चाहता हूं धर्मेंद्र यादव जी ने जो प्रदेश की जिम्मेदारी दिलवाई थी उसका मैं आभारी रहूंगा  2022 के विधान सभा इलेक्शन में हम लोग अपनी मेहनत से अपनी पार्टी की नीतियों को जन-जन तक पहुंचाएंगे 2022 में हमारा पार्टी का भविष्य उज्जवल होगा 

    बदायूं से सालिम रियाज़ की रिपोर्ट

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.