Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    2013 के मानहानि मामले में स्मृति ईरानी को नोटिस



    नई दिल्ली, 22 अप्रैल- सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्रीय मंत्री व भाजपा नेता स्मृति ईरानी द्वारा कांग्रेस नेता संजय निरूपम के खिलाफ दायर मानहानि के मुकदमे को खारिज करने की निरूपम की अपील पर विचार करना सोमवार को स्वीकार कर लिया।



    अदालत ने इस संबंध में ईरानी को नोटिस जारी किया। निरूपम ने ईरानी द्वारा दायर आपराधिक मानहानि शिकायत में ट्रायल कोर्ट द्वारा उनके खिलाफ जारी समन को अलग रखने की मांग की है।
    2013-ke-maanhaani-maamle-me-smriti-errani-ko-notice
    2013 के मानहानि मामले में स्मृति ईरानी को नोटिस
    सर्वोच्च न्यायालय ने कांग्रेस नेता की अपील पर गौर करने की मंजूरी देते हुए कहा, "आप टीवी बहस के लिए क्यों जाते हैं जब आप लड़ाई में पड़ जाते हैं और फिर अदालत का रुख करते हैं।"

    वर्ष 2012 में, एक निजी टेलीविजन चैनल पर एक न्यूज डिबेट में ईरानी और निरूपम के बीच तीखी बहस हो गई थी।

    निरूपम ने कथित तौर पर ईरानी की साख पर सवाल उठाते हुए कहा था, "आप टीवी पर डांस शो करने के लिए पैसे चार्ज करती थी? अब आप एक चुनावी विश्लेषक हैं?"

    ईरानी ने 2013 में निरूपम के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया। कांग्रेस नेता ने भी जवाब में एक मानहानि का मुकदमा दायर किया।

    वर्ष 2014 में, तत्कालीन केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ईरानी ने दिल्ली उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की, जिसमें निरूपम द्वारा उनके खिलाफ शिकायत को और ट्रायल कोर्ट द्वारा जारी समन को खारिज करने की मांग की गई। 

    वहीं, निरूपम ने ईरानी द्वारा दायर की गई शिकायत को और अदालत के 2013 के आदेश में उन्हें समन करने को लेकर चुनौती दी। 

    दिल्ली उच्च न्यायालय ने तब निरूपम द्वारा दायर 2012 के मानहानि मामले में ईरानी के खिलाफ ट्रायल कोर्ट की कार्यवाही को अलग रखा।

    हालांकि, ईरानी द्वारा कांग्रेस नेता के खिलाफ दायर मानहानि मामले में उन्हें कोई राहत नहीं मिली।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.