Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    डीजीपी के आदेश को नहीं मानते डायल 100 के पुलिसकर्मी, पत्रकार से किया अभंद्रता


    डलमऊ/रायबरेली- डलमऊ कोतवाली क्षेत्र के कुटिया चौराहे पर लगभग 8:00 बजे मार्ग दुर्घटना की सूचना मिलने पर एक हिंदी दैनिक अखबार के पत्रकार ने मौके पर पहुंचकर सूचना प्राप्त करने लगे तभी प्रत्यक्ष दर्शियो ने बताया कि इस घटना की सूचना डायल हंड्रेड पुलिस को दिए हुए लगभग 2 घंटे से ऊपर हो गए
    DGP-ke-aadesh-ko-nahi-maante-dial-100-ke-policekarmi-patrkaar-se-kiya-abhadratta
    डीजीपी के आदेश को नहीं मानते डायल 100 के पुलिसकर्मी, पत्रकार से किया अभंद्रता
    लेकिन अभी तक घटनास्थल पर एक होमगार्ड तक नजर नहीं आया।घायलों की फोटो लेने के दौरान मौके पर डायल हंड्रेड पीआरवी 1765 पहुंच गई इस दौरान मौजूद लोग पुलिस के विरुद्ध आक्रोशित होने लगे इसी दौरान कैमरे का फ्लैश जैसे ही चमका डायल हंड्रेड के सिपाही ने झटपट पत्रकार का कैमरा छीन लिया और पत्रकार के साथ गाली गलौज कर अभद्रता करने लगे हद तो तब हो गई

    जब डायल हंड्रेड के पुलिसकर्मियों ने पत्रकार के पास रखें 935 रूपये व आईडी कार्ड, मोबाइल छीन लिया। ऐसा नहीं है कि यह सब कारनामा डायल हंड्रेड के कर्मचारियों द्वारा किया गया जबकि इस समस्त घटना के दौरान डलमऊ कोतवाली पुलिस के दीवान मौजूद थे परंतु उन्होंने नशे में धुत डायल हंड्रेड के पुलिसकर्मियों को यह बताना मुनासिब नहीं समझा कि जिसके साथ वह अभद्रता कर रहे हैं वह एक प्रतिष्ठित दैनिक समाचार पत्र के पत्रकार हैं। 

    इस मामले की सूचना जब पीड़ित पत्रकार की तरफ से क्षेत्राधिकारी विनीत सिंह को दी गई तो क्षेत्राधिकारी के निर्देश पर पत्रकार को कैमरा,मोबाइल और आईडी कार्ड तो दे दिया गया लेकिन नशे में चूर सिपाहियों ने पत्रकार से छीने रुपए वापस नहीं किए। पीड़ित पत्रकार ने कोतवाली प्रभारी को डायल हंड्रेड में तैनात 3 लोगों के विरुद्ध नामजद तहरीर दी कोतवाली प्रभारी मणि शंकर तिवारी ने तीनों दोषी पुलिसकर्मियों के विरुद्ध लाइन हाजिर की कार्यवाही का आश्वासन दिया परंतु जब नशे में धुत सिपाहियों का मेडिकल कराने की बात कही गई तो उससे कन्नी काट गए। 

    पत्रकार के साथ हुई अभद्रता के संबंध में क्षेत्राधिकारी विनीत सिंह ने कहा की रुपये लेने की बात तो संज्ञान में नही है लेकिन डायल हंड्रेड के पुलिस कर्मियों व पत्रकार के बीच में कुछ कहा सुनी हुई है।फिलहाल तीनो दोषी पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर किया जा रहा है। जांच कराकर उसके बाद कार्यवाही की जाएगी।क्योंकि पत्रकार अपने साथ हुए अभद्र व्यवहार के सम्बंध में कोई प्रूफ नही दे पा रहे बर्खास्तगी बिना जाँच के नही हो पायेगी। 

    फिलहाल इस प्रकरण में आगे चाहे जो कुछ भी हो परंतु अब आम जनमानस में पुलिस का भय व्याप्त हो गया है, क्योंकि जब एक पत्रकार के साथ ऐसी निंदनीय घटना हो सकती है तो आम जनमानस के साथ क्या-क्या होता होगा।
    रिपोर्ट- धर्मेंद्र सिंह 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.