Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कला संस्कृति देश व समाज की पहचान होती हैः-जिलाधिकारी



    हरदोई- 30 जनवरी- रखखान प्रेक्षागृह में जिलाधिकारी पुलकित खरे की अध्यक्षता में नाट्य प्रस्तुति रिफ्लेक्शन अननोन का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। 
    Kala-sanskriti-desh-va-samaj-ki-pahchaan-hoti-hai-Dm
    कला संस्कृति देश व समाज की पहचान होती हैः-जिलाधिकारी
    जिला प्रशासन के सहयोग से भारतेन्दु नाट्य अकादमी लखनऊ की नाट्य प्रस्तुति रिफ्लेक्शन अननोन का सफल मंचन किया गया। कामतानाथ कृत कथा संक्रमण पर आधारित नाटक रिफ्लेक्शन अननोन का निर्देशन रंग मण्डल प्रमुख चित्रा मोहन ने किया। नाटक का कथानक पीढ़ी अंतराल से उत्पन्न होने वाली स्वाभाविक प्रतिक्रियाओं पर आधारित था। जाने अनजाने भाव प्रतिबिम्ब कब पीढ़ी अन्तराल से गुजरते हुए पुनर्जीवित हो उठते है, पता ही नही चलता। इस नाटक में मानसिकता एवं भाव अभिव्यंजना एक सी होते हुए भी अलग-अलग छवियों के माध्यम से अभिव्यक्त की गई। 

    नाटक में पिता की भूमिका में राजू पाण्डेय, शैलेन्द्र तिवारी तथा मनोज शर्मा को दर्शको द्वारा खूब सराहा गया। पुत्र के रूप में नितीश भारद्वाज, प्रिंस सोनकर तथा अखिल तिवारी अपने अभिनय से पूरा परिचय दिया। माॅ की भूमिका में अलका विवेक व संध्यादीप तथा पुत्रवधू प्रतिभा विश्वकर्मा के अभिनय को भी खूब सराहा गया। कार्यक्रम का संचालन प्रतिबिंब महासचिव अनिल श्रीवास्तव द्वारा किया गया।  प्रकाश संचालन देवाशीष मिश्रा, मंच व्यवस्था पवन शर्मा, संगीत अखिलेश दीक्षित, दीपू ने दिया। प्रस्तुति सहायक आइफिन जैक्सन का रहा।

    नाट्य अकादमी के कलाकारों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी पुलकित खरे ने कहा कि कला संस्कृति देश व समाज की पहचान होती है। इस तरह की गतिविधियों में निरन्तरता बनी रहे, यह हमारा प्रयास रहेगा। उन्होने शीघ्र ही प्रेक्षागृह को सभी आवश्यक उपकरणो से सुसज्जित करने की भी बात कही। 

    इस अवसर पर नाटक के प्रायोजक बालाजी हुण्डई के कपिल अग्रवाल, मुख्य विकास अधिकारी आनन्द कुमार, नगर मजिस्ट्रेट सतीश कुमार त्रिपाठी, अरूणेश बाजपेयी, आनन्द गुप्ता, रंगकर्मी राहुल चैहान, रमेश बाजपेयी, मनीष श्रीवास्तव, डा0 देशदीप शुक्ल सहित भारी संख्या में नाट्य प्रेमी मौजूद रहे। 

    विजयारती 
    INA न्यूज़ 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.