Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    राजपूताना शौर्य फ़ाउन्डेशन राजपूत समागम एवं मिलन का हुआ आयोजन

    हरदोई- गठन के थोड़े ही समय बाद  99 देशों में विस्तारित हो चुके राजपूताना शौर्य फ़ाउन्डेशन का मिलन समारोह शनिवार देर शाम बालामऊ में मशहूर सर्जन डॉ0 एसके सिंह के फॉर्म हाउस पर सम्पन्न हुआ। 

    rajputana-shoorya-foundation-rajput-samagan-avam-milan-ka-hua-ayojan
    राजपूताना शौर्य फ़ाउन्डेशन राजपूत समागम एवं मिलन का हुआ आयोजन 
    समारोह का प्रारम्भ क्षत्रिय समाज के वरिष्ठ लोगों ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इसके बाद मंच पर रखे गए भगवान राम और महाराणा प्रताप सिंह के चित्रों पर सभी ने पुष्प अर्पित किए। फ़ाउन्डेशन के संचालक मण्डल ने संस्था के कार्यक्रमों पर विस्तार से चर्चा की। 

    संचालक मण्डल के वरिष्ठ सदस्य भारतीय वन

    सेवा के अफ़सर महेन्द्र सिंह (गोरखपुर) ने कहा, फ़ाउन्डेशन के गठन का उद्देश्य क्षत्रिय समाज को कठिनाइयों से उबारने और उसे पिछड़ने से रोकने की मंशा से किया गया है। कोशिश है, समाज के सुविधा सम्पन्न लोगों के संसाधनों की सहायता से समाज के गरिमामयी व सम्मानजनक इतिहास को संजोए रखते हुए सामाजिक, शैक्षणिक व आर्थिक विकास के महत्व से अवगत कराया जाए। 

    साथ ही समाज के जरूरतमंदों को अलग अलग क्षेत्र में कार्यक्रम संचालित कर सहयोग देते हुए जागरूक करना फ़ाउन्डेशन का मुख्य उद्देश्य है। कहा, अन्य समाज के लोग लगातार प्रगति कर रहे हैं, लेकिन राजपूत समाज लगातार पिछड़ रहा है। इसकी वजह समाज में सम्पर्क, संवाद और सहयोग का अभाव है। 

    rajputana-shoorya-foundation-rajput-samagan-avam-milan-ka-hua-ayojan
    राजपूताना शौर्य फ़ाउन्डेशन राजपूत समागम एवं मिलन का हुआ आयोजन 
    महेन्द्र सिंह ने बताया, फ़ाउन्डेशन 08 सूत्रीय  कार्यक्रम को लेकर काम कर रहा है। पहले सूत्र के तहत सम्पर्क और संवाद स्थापित कर शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में सदस्यता अभियान संचालित किया जा रहा है, ताकि सहयोग के सूत्र को बल मिले। दूसरा सूत्र शैक्षणिक कार्यक्रम है। इसके तहत नौनिहालों को उच्च/व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण/प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में मार्गदर्शन व आवश्यकतानुसार आर्थिक सहयोग करना है। तीसरा सूत्र स्वास्थ्य कार्यक्रम है। 

    इसके अनुसार, समाज के जरूरतमंदों को स्वास्थ्य सम्बन्धी सुझाव व सहायता अलग-अलग क्षेत्र में आपसी सहयोग से करना है। चौथा सूत्र स्व-रोजगार व रोजगार परक कार्यक्रम है। स्व-रोजगार के तहत समाज के बेरोजगारों का प्रशिक्षित सलाहकारों द्वारा मार्गदर्शन किया जाएगा। रोजगार के तहत व्यावसायिक रूप से सक्षम लोगों की मदद से रोजगार मुहैया कराने का प्रयास होगा।

    पांचवां सूत्र महिला सशक्तिकरण है। इसके तहत समाज की महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करते हुए यह सुनिश्चित किया जाएगा कि उन्हें अपेक्षित सम्मान मिलता रहे। छठा सूत्र वैवाहिक कार्यक्रम है। महेन्द्र सिंह ने कहा, आज सजातीय वर/वधु की खोज व विश्वसनीयता बड़ा सवाल है। योजना है कि अभिभावकों को संवाद के जरिए जोड़ा जाए, जिससे वह अपनी पसंद, जरूरत व हैसियत के मुताबिक अपने बच्चों का विवाह करवा सकें। 

    साथ ही समाज के जरूरतमंद अभिभावकों के बच्चों के विवाह में आर्थिक सहायता की भी योजना है।सातवां सूत्र क़ानूनी सहायता कार्यक्रम है। इसके तहत समाज के उन शोषित लोगों को जो आर्थिक या अन्य कारण से न्याय पाने से वंचित हैं, उन्हें समाज के सक्षम लोगों से मदद करवाना है।अन्तिम सूत्र कृषि कार्यक्रम है। इसके जरिए ग्रामीण क्षेत्र के राजपूतों के आर्थिक उन्नयन के लिए वैज्ञानिक खेती व पशु पालन प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।


    भारतीय पुलिस सेवा के वरिष्ठ अफ़सर एसके सिंह ने फ़ाउन्डेशन के 08 सूत्रीय कार्यक्रमों में एक सूत्र और जोड़ने का सुझाव दिया। कहा, राजपूत समुदाय में आपसी विवाद को थाना-कचहरी पहुंचने से रोकने की ओर भी एक कार्यक्रम होना चाहिए। इसके तहत आपसी विवाद के मामलों में राजपूत समाज के प्रभावशाली लोग दख़ल दे कर सुलझाने का काम करें। 

    इसका लाभ यह होगा कि एकजुटता बढ़ेगी और समाज के लोग ध्यान काम-धन्धे पर केन्द्रित कर पाएंगे। फ़ाउन्डेशन के संचालक मण्डल ने आईपीएस अफ़सर के सुझाव का स्वागत किया और उनके सुझाए कार्यक्रम को कार्य योजना में सम्मिलित करने पर हामी भरी। मिलन समारोह मे, जब समाज के लोगों को उनकी बात रखने को बुलाया गया

    अहिरोरी के निर्भय सिंह ने समाज को एकजुट होने संदेश दिया।


    सवायजपुर से भाजपा विधायक माधवेन्द्र प्रताप सिंह 'रानू' का। विधायक ने कहा, सनातन संस्कृति साक्षी है कि राजपूत समाज ने हमेशा राष्ट्र और समाज की एकजुटता के लिए खुद को न्यौछावर किया है। समाज के दबे-कुचले और शोषित-वंचित वर्ग को संरक्षण दिया है। सर्व समाज को एक सूत्र में बांधे रखने का दायित्व निर्वाह किया है। कहा, शीर्ष कोर्ट की व्यवस्था से समाज के वर्ग में असुरक्षा की भावना थी, जिसे सरकार ने निर्मूल भर किया है। 

    रानू ने राजपूताना फ़ाउन्डेशन में कार्यक्रमों की सराहना की और आश्वस्त किया कि इस दिशा में वह फ़ाउन्डेशन का हर सम्भव सहयोग करते रहेंगे। जहां जरूरत होगी, कन्धे से कन्धा मिला कर खड़े रहेंगे। जिले में मिलन समारोह के सफल आयोजन के लिए डॉ0 एसके सिंह, डॉ0 एके सिंह और आलोक सिंह की सराहना की।


    विजय लक्ष्मी सिंह ''वैदेही ''
    INA न्यूज़ एडिटर इन चीफ 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.