Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    जबलपुर में महिला चिकित्सक के साथ गुंडागर्दी शर्मनाक : सिंधिया


    भोपाल, 8 मई - मध्यप्रदेश के जबलपुर में सत्ताधारी पार्टी से जुड़े गुंडों की अभद्रता और दुष्कर्म की धमकी की शिकायत के बावजूद पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई न किए जाने से हताश होकर जबलपुर के सरकारी अस्पताल की चिकित्सक डॉ. रचना शुक्ला का अपने पद से इस्तीफा देने की घटना को कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इंसानियत को शर्मिदा करने वाला बताया। सिंधिया ने मंगलवार को ट्वीट किया,


     "मेडिकल कॉलेज में कार्यरत महिला चिकित्सक से बदसलूकी के दो माह बाद भी दोषियों पर कार्रवाई नहीं हुई। परेशान महिला चिकित्सक ने गुंडों से डरकर इस्तीफा दे दिया। अत्यंत शर्मनाक है। जाहिर है कि भाजपा का बेटी बचाओ अभियान पूरी तरह से खोखला है। यह इंसानियत के लिए अत्यंत शर्मिदगी का दौर है।"

    जबलपुर के विक्टोरिया अस्पताल में पदस्थ डॉ. रचना शुक्ला राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री श्यामाचरण शुक्ल की रिश्तेदार हैं। उनसे लगभग दो माह पहले कुछ लोगों ने अभद्रता की थी। डॉ. रचना ने इन लोगों की शिकायत भी की, मगर पुलिस ने प्राथमिकी तक दर्ज नहीं की। डॉक्टर ने विभागीय स्तर पर भी कार्रवाई चाही, मगर सहयोग नहीं मिला। आखिरकार उन्होंने अस्पताल की सरकारी नौकरी से इस्तीफा दे दिया। 

    बताया गया है कि जिन दबंगों ने डॉ. रचना के साथ अभद्रता की थी, वे भाजपा के प्रभावशाली नेता से जुड़े हुए हैं। यही वजह है कि वफादारी दिखाने के लिए न तो पुलिस ने और न ही चिकित्सा विभाग ने महिला चिकित्सक की शिकायत को गंभीरता से लिया। आखिरकार डॉ. रचना शुक्ला ने अपने पद से इस्तीफा देना ही बेहतर समझा। 

    डॉ. रचना के इस्तीफे की जो प्रति सोशल मीडिया पर वायरल हुई है, उसकी भाषा ही जाहिर करती है कि सत्ता के चहेते दबंगों ने महिला चिकित्सक के साथ किस तरह का बर्ताव किया गया होगा। पूर्व मुख्यमंत्री की रिश्तेदार को दुष्कर्म करने तक की धमकी दी गई, लेकिन पुलिस व चिकित्सा दोनों महकमों ने शिकायत शायद इसलिए अनसुनी कर दी, क्योंकिश्यामाचरण शुक्ल कांग्रेस के नेता थे। डॉ. रचना शुक्ला के त्यागपत्र की भाषा उनके डर-सहमे होने की ओर इशारा करती है। 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.