Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    डॉ. कुमार विश्वास: कवि जो राजनीति में हैं 'मिसफिट' लेकिन युवाओं के दिलों में हैं हिट



    लाखों युवाओं के दिलों पर राज करने वाले कवि डॉ. कुमार विश्वास का आज यानि की 10 फरवरी को जन्मदिन है। कुमार विश्वास न सिर्फ एक जानेमाने कवि हैं, बल्कि वे आम आदमी पार्टी के प्रमुख नेता भी हैं। वे आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता के साथ साथ राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य भी हैं। हालांकि, कई लोग विश्वास को ऐसे व्यक्तित्व वाला कवि मानते हैं जो राजनीति में मिसफिट हैं, लेकिन युवाओं के दिलों में काफी हिट हैं। इस बारे में कुमार विश्वास खुद भी कई मंचों से खुद को राजनेता से पहले कवि होने की बात स्वीकार चुके हैं।


    देश और दुनिया में तकरीबन पांच हजार से अधिक कवि सम्मेलनों में कविताएं सुनाने का दावा करने वाले कुमार विश्वास पहले ऐसे हिन्दी भाषा के कवि हैं जिन्होंने अपनी कविताएं जापान, वियतनाम जैसे देशों में सुनाई हैं। इसके अलावा उन्हें दुबई, अमेरिका आदि जैसे देशों में भी कविता पाठ के लिए बुलाया जाता रहा है।

    कुमार विश्वास ने तकरीबन 23 मुल्कों में कविता पाठ किया है। इसके अलावा वे गूगल हेडक्वार्टर में भारतीय और दक्षिण एशिया मूल के गूगल कर्मियों को भी संबोधित कर चुके हैं। वहीं, ऑस्ट्रेलिया की ला ट्रोब यूनिवर्सिटी में भी उन्हें बुलाया जा चुका है।

    कई मशहूर शायर कुमार विश्वास के बारे में प्रशंसा कर चुके हैं। कवि कुमार विश्वास के बारे में बात करते हुए मशहूर शायर मुन्नवर राणा कहते हैं, 'कुमार विश्वास ऐसा कवि है, जिसने आज के युवाओं को गालिब, मीर जैसे शायरों के बारे में बताया है और उनकी कविताओं से मिलवाया है।' वहीं, एक और अन्य शायर अब्बास ताबिश ने कुमार विश्वास के लिए कुछ पंक्तियां लिखी हैं। उन्होंने लिखा है, 'कुमार बोल रहा हो तो गौर से सुनिएगा, हमारे यार में हिन्दुस्तान बोलता है।'

    कुमार विश्वास न सिर्फ कवि सम्मेलनों में काफी पसंद किए जाते हैं बल्कि वे सोशल मीडिया पर भी काफी मशहूर हैं। ट्विटर पर कुमार विश्वास के चालीस लाख से ज्यादा फॉलोवर्स हैं। वहीं, फेसबुक पर यह संख्या 30 लाख और यूट्यूब पर कुमार विश्वास के सब्सक्राइबर्स की संख्या ढाई लाख से अधिक है।

    ऐसे तीन कवि जो कुमार विश्वास के हैं पसंदीदा
    तकरीबन 17 सालों तक बतौर प्रोफेसर की सेवा देने वाले कुमार विश्वास के भले ही दुनियाभर में लाखों चाहने वाले हों। लेकिन कुमार विश्वास को भी कुछ कवि बेहद पसंद हैं। कुमार विश्वास के अनुसार, उन्हें पंजाबी भाषा के विख्यात कवि शिव बटालवी खासे पसंद हैं। शिव बटालवी सबसे कम्र में साहित्य अकादमी पाने वाले साहित्यकार थे। इसके बाद कुमार विश्वास को इंग्लिश के पोएट जॉन कीट्स काफी प्रिय हैं। वहीं,यूपी के अमरोहा में जन्में जॉन एलिया की भी शायरियां कुमार विश्वास को काफी पसंद हैं।

    कुमार विश्वास की किताबें
    डॉ. कुमार विश्वास की किताबों की बात करें तो उनकी दो किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं। एक 'इक पगली लड़की के बिन' और दूसरी 'कोई दिवाना कहता है'। इसके अलावा हाल ही में डॉ विश्वास ने मशहूर शायर जॉन एलिया पर वाणी प्रकाशन से प्रकाशित हुई 'मैं जो हूं जॉन एलिया हूं जनाब' को भी संपादित किया है।

    जानिए कुमार विश्वास के निजी जिंदगी के बारे में
    डॉ. कुमार विश्वास का जन्म 10 फरवरी , 1970 को पिअखुआ (गाज़ियाबाद, यूपी) में हुआ था। वे कुल चार भाईयों व एक बहन में सबसे छोटे हैं। उन्होंने अपनी शुरुआती शिक्षा पिलखुआ के ही एक स्कूल से प्राप्त की है। डॉ विश्वास के पिता डॉ चन्द्रपाल शर्मा भी प्रोफेसर थे, वहीं, उनकी माता गृहिणी हैं। 

    कोई दीवाना कहता है
    कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है।
    मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है।।
    मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है।
    ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है।।

    मैं तुम्हे ढूंढने
    मैं तुम्हें ढूँढने स्वर्ग के द्वार तक,
    रोज आता रहा, रोज जाता रहा।
    तुम गजल बन गई, गीत में ढल गई,
    मंच से में तुम्हें गुनगुनाता रहा।

    है नमन उनको
    है नमन उनको कि जो यशकाय को अमरत्व देकर,
    इस जगत के शौर्य की जीवित कहानी हो गये हैं।
    है नमन उनको कि जिनके सामने बौना हिमालय,
    जो धरा पर गिर पड़े पर आसमानी हो गये हैं।

    उत्तराखंड से सैयद उवैस अली के साथ मौ.आसिफ की रिपोर्ट

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.