Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    25 फरवरी को होगा इण्डियन कॉन्फ्रेंस सेंटर में AR फाउंडेशन द्वारा आयोजित कार्यक्रम "माँ तेरे नाम"

    आगामी 25 फरवरी को इण्डियन कॉन्फ्रेंस सेंटर  पीतम पुरा(नई दिल्ली)में ,रविवार दोपहर 1 बजे  माँ (तेरे नाम) से , एक सांस्कृतिक कार्यक्रम आप तक लेकर आ रहा है, ह्यूमैनिटी अवार्ड्स के साथ।

    ये कार्यक्रम एक ऐसी शख्सियत के नाम है,जिसका दूसरा कोई विकल्प इस संसार मे नही है, इस दुनियाँ में माँ से पहले और माँ के बाद कोई तीर्थ कोई पवित्र चीज नही है,माँ एक स्वयं में ही ईश्वर है।


    लेकिन कई वृद्ध आश्रमों में ,कई जगह पर माँ को इतनी बुरी और विपरीत हालातों में पाया  गया कि,स्वयं से प्रश्न होता है,कि आखिर मानवता को इंसान को हो क्या गया है, इसी प्रश्न का जवाब खोजने और आज की युवा ,उन्मुक्त पीढ़ी को अपनी माँ और उसकी ममता की कीमत समझाने की एक छोटी सी कोशिश।

     AR फाउंडेशन इस कार्यक्रम के जरिये कर रहा है ।

    ये संस्था सैदव समाज मे एक अच्छी और संस्कारवान संस्कृति को बढ़ावा देने वाले ,प्रोत्साहित करने वाले कार्यक्रमो का आयोजन कर ,समाज को जोड़ने और दिशा देने का प्रयास करती है। कियुकि किसी भी देश का विकास तभी सम्भव है,जब उसके नागरिक एक बेहतर इंसान हो।

    माँ के अस्तित्व को नकारने वाले लोगो के लिए ये कार्यक्रम एक आईना है,कि जो औरत आपको ये दुनियाँ दिखाती है,आप उसी औरत को बुढ़ापे में सड़क पर ,वृद्धा आश्रमों में तिल तिल मरने को ,तड़पने को कैसे छोड़ सकते हो?एक ज्वलंत विषय औऱ उसके समाधान के विषय में कुछ बुद्धिजीवी बात करेंगे,कलम से और विचारों से।

    इसी के साथ समाज सेवा, देश सेवा व मानवता से जुड़े ऐसे 21 लोगो को एक मंच पर लाकर उनको सम्मान भी इस कार्यक्रम में दिया जा रहा है,जिन्होंने अपने कार्यो से देश ,समाज का नाम रोशन किया है, जो मानवता को ही अपना धर्म समझते है। संस्था पिछले कई सालों से ऐसे अवार्ड फंक्शन करती आ रही है।बहुत से लोग आज इस मंच से मिले,औऱ एकजुट होकर देश के लिए कार्य कर रहे है।

    इसी के साथ AR Foundation बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ से लेकर , गरीब लड़कियों की शादी,उनके समाज मे उत्थान और उनकी शिक्षा और रोजगार से सम्बंधित कार्यो से भी जुड़ी हुई है,और उनके लिए कार्य करती है।

    एसिड अटैक सर्विवोर्स के लिए भी संस्था प्रयासरत है।
    संस्था देश की युवा पीढी को ,संस्कार, मूल्यों और सभ्यता ,देश प्रेम ,मातृप्रेम और मानवता का संदेश इस कार्यक्रम से देना चाहती है।

    इसके संस्थापक  व आयोजक नीलिमा ठाकुर , रोहित प्रताप सिंह का मानना है,कि अगर किसी  पेड़ की  जड़े सच्चाई ,पवित्रता और मानवता का पोषण लिए होंगी,तो वृक्ष और फल हमेशा मीठे औऱ अच्छे होंगे।
    कियुकि किसी भी देश का भविष्य उसका युवा है,उनका संस्कारशील होना नितांत आवश्यक है।

    आप सभी सादर आमंत्रित है, एक शाम माँ के नाम।



    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.